Garbh Sanskar

गर्भ संस्कार के बच्चे पर चमत्कारी प्रभाव​

- What is Garbh sanskar

मातृत्व एक वरदान है तथा प्रत्येक गर्भवती एक तेजस्वी शिशु को जन्म देकर अपना जन्म सार्थक कर सकती है। दुर्भाग्यवश इस संवेदनशील स्थिति को गर्भवती महिलाएँ कुटुंब और समाज सभी नजरअंदाज कर रहे हैं। गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क का विकास गर्भवती की भावनाएं, विचार, आहार एवं वातावरण पर निर्भर होता है।
 
डॉ.अरनाल्ड शिबेल (न्यूरोलॉजिस्ट) कहते हैं कि यदि गर्भवती आधे घंटे तक क्रोध या विलाप कर रही हो तो उस दरमियान गर्भस्थ शिशु के मस्तिष्क का विकास रुक जाता है जिसका नतीजा गर्भस्थ शिशु कम बौद्धिक क्षमता के साथ जन्म लेता है। यह महत्वपूर्ण बात हम जानते ही नहीं हैं। गर्भस्थ शिशु का मस्तिष्क न्यूरोन सेल्स से बना होता है। यदि मस्तिष्क में न्यूरोन सेल्स की मात्रा अधिक है तो स्वाभाविक रूप से शिशु के बौद्धिक कार्यकलाप अन्य शिशुओं की अपेक्षा बेहतर होते हैं।
 
आज की कम्प्यूटर भाषा में कहा जाए तो मस्तिष्क को हम हार्ड डिस्क कह सकते हैं। यह हाई डिस्क गर्भवती के मस्तिष्क से जुड़ी होती है। फलस्वरूप गर्भवती के विचार, भावनाएं, जीवन की ओर देखने का दृष्टिकोण, तर्क आदि गर्भस्थ शिशु के मस्तिष्क में संग्रहीत होता जाता है। परिणामतः जब वह इस जगत में आता है तो अपना एक अनूठा व्यक्तित्व लेकर आता है। इसी के कारण आनुवांशिकत रूप से एक होते हुए भी दो भाइयों में भिन्नता दिखाई देती है क्योंकि प्रत्येक गर्भावस्था के दरमियान गर्भवती की मनोदशा भिन्न होती है। आज गर्भवती अपने गर्भस्थ शिशु को संस्कार देकर तेजस्वी संतान प्राप्त कर सकती है।
 

गर्भसंस्कार का अर्थ है गर्भधारणा से लेकर प्रसूति तक के 280 दिनों में घटने वाली हर घटना, गर्भवती के विचार, उसकी मनोदशा, गर्भस्थ शिशु से उसका संवाद, सुख, दुःख, डर, संघर्ष, विलाप, भोजन, दवाएं, ज्ञान, अज्ञान तथा धर्म और अधर्म जैसे सभी विचार आने वाले शिशु की मानसिकता पर छाए रहते हैं। अमेरिका के एक अन्य वैज्ञानिक चिकित्सक डॉ. पीटर नाथांजिल अपने अध्ययन के बाद इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि गर्भावस्था के दौरान आहार में परिवर्तन, आहार की कमी, गलत आहार से गर्भस्थ शिशु को कई बीमारियां मिल जाती हैं। शिशु के भावी जीवन में स्वास्थ्य संबंधी क्या तकलीफें हो सकती हैं उसकी नींव गर्भावस्था के दौरान ही पड़ जाती है।

Benefit's of Garbh Sanskar Oshdhi

As we all know cesarean include so many risk to life of mother as well as for baby, This program increases the chance of normal delivery and helps you to reduce possibility of c-section and save you from physical and mental trauma.

Chances of miscarriage in the 3rd, 5th & 7th month increases due to several changes in our body and emotions, which can be prevented by this program.

This program includes various techniques and scientific method which leads to development of brain and enhances capabilities of brain, so we can give birth to a Intelligent child

You can fulfill your dream of getting a healthy and beautiful child by joining this program.

We can sow seeds of samskaras and design their personality during pregnancy. These samskaras will remain with them for the rest of their lifetime.

There are five aspects of personality physical, mental, emotional, social and spiritual. This program works upon all these aspects develops and strengthen them.

As we all know the cost of cesarean is approximately varies between min. Rs. 50,000 to 1,50,000 or more, which can be avoided by increasing chances of normal delivery.

we can reduce possibility of various diseases and threats during pregnancy and post delivery by this program.

like thousands of couple you also can turn your pregnancy into a celebration and memorable experience.